Imran Khan No-Trust Vote Live: थोड़ी देर में अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग, इमरान की गिरफ्तारी की आशंका – Imran Khan No-Trust Vote Live: PM may arrested today after voting

Imran Khan No-Trust Vote Live: पाकिस्तान की संसद में अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान से पहले प्रधानमंत्री इमरान खान ने सत्तारूढ़ पार्टी के सांसदों को जीत हासिल होने के प्रति आश्वस्त किया, जबकि विपक्ष के नेता शाहबाज़ शरीफ ने प्रधानमंत्री के खिलाफ ‘देशद्रोह’ का मामला दर्ज किए जाने की मांग की। क्रिकेटर से राजनेता बने खान (69) अविश्वास प्रस्ताव का सामना कर रहे हैं जो विपक्ष के नेता शरीफ ने 28 मार्च को नेशनल (कौमी) असेंबली में पेश किया था, जिस पर आज थोड़ी देर में मतदान होना है।

खान को, उन्हें प्रधानमंत्री पद से बेदखल करने की विपक्ष की कोशिश को नाकाम करने के लिए निचले सदन में 342 में से 172 सदस्यों के समर्थन की ज़रूरत है। वहीं, विपक्ष का दावा है कि उसके पास 175 सांसदों का समर्थन है और खान को प्रधानमंत्री पद से फौरन इस्तीफा दे देना चाहिए। खान आंकड़ों के खेल में पिछड़ते दिख रहे हैं और अहम सहयोगियों ने उनका साथ छोड़ दिया है तथा कई बागी सांसदों ने उनके खिलाफ मतदान करने का संकल्प लिया है।

‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ की खबर के मुताबिक, खान ने कहा, “ मैच आखिरी गेंद तक खत्म नहीं होता है, मैं कल के लिए फिक्रमंद नहीं हूं… इंशाअल्लाह (अल्लाह ने चाहा तो) हम जीत जाएंगे।” शनिवार को यहां प्रधानमंत्री आवास में सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के सांसदों को संबोधित करते हुए उन्होंने शरीफ पर तंज कसते हुए कहा कि जिन्होंने प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के लिए ‘शेरवानी’ तैयार रखी है, उन्हें नहीं पता कि उनके साथ रविवार को क्या होने वाला है।

खान के संबोधन के तुरंत बाद एक प्रेस वार्ता में पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) के अध्यक्ष शरीफ ने कहा, “इमरान खान के खिलाफ पहले देशद्रोह का मामला दर्ज किया जाना चाहिए …(2014 का) धरना खत्म न करके, इमरान खान ने देश के गौरव को नुकसान पहुंचाया था।” ‘जियो न्यूज़’ की खबर के मुताबिक, उन्होंने कहा कि अगर राजनीतिक नेता “देशद्रोह और देशभक्ति” में शामिल होते हैं, तो मामला हाथ से निकल जाएगा। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि अगर खान संविधान और कानून के खिलाफ जाते हैं, तो वे अपना काम करेंगे।



Reference-www.jansatta.com

Add a Comment

Your email address will not be published.