America targeting russian president Putin daughters amid Russia-Ukraine war – रूस यूक्रेन युद्ध के बीच पुतिन की पुत्रियों को क्यों निशाना बना रहा अमेरिका? समझें

यूक्रेन में चल रहे रूसी हमले और युद्ध अपराधों के बीच अंतरराष्ट्रीय दबाव भी बढ़ना शुरू हो गया है। अमेरिका ने रूस के खिलाफ कड़े प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए हैं। बुधवार को अमेरिका ने रूसी बैंकों पर जुर्माना बढ़ाये जाने और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की दो बेटियों को निशाना बनाते हुए पाबंदियां लगाए जाने की घोषणा की। इस कदम के तहत स्बरबैंक और अल्फा बैंक को अमेरिकी वित्तीय प्रणाली से दूर करने के साथ ही अमेरिकी नागरिकों को इन संस्थानों के साथ व्यापार करने से रोका गया है।

इसके अलावा, अमेरिकी प्रतिबंधों के दायरे में पुतिन की बेटियों मारिया पुतिन व कैटरीना तिखोनोवा और प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्टिन, रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की पत्नी और बच्चों के अलावा रूस की सुरक्षा परिषद के सदस्यों और पूर्व राष्ट्रपति दिमित्री मेदवेदेव को भी रखा गया है। अमेरिका ने पुतिन परिवार के सभी करीबी सदस्यों को अमेरिकी वित्तीय प्रणाली से दूर कर दिया है और इनकी अमेरिका स्थित सभी संपत्तियों को फ्रीज कर दिया गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने ताजा प्रतिबंधों को ”विध्वंसकारी” करार दिया।

बाइडन ने ट्वीट कर कहा, ”मैंने स्पष्ट किया है कि रूस को बुचा में हुए अत्याचारों की तत्काल बड़ी कीमत चुकानी होगी।” बाइडन के उस कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर करने की उम्मीद है, जोकि अमेरिकी नागरिकों द्वारा रूस में किसी भी नये निवेश को रोकेगा, फिर चाहे वह दुनिया के किसी भी हिस्से में रह रहे हों। उल्लेखनीय है कि यूक्रेन के बुचा शहर में रूसी बलों के अत्याचारों से जुड़ी तस्वीरें सामने आने के बाद से पश्चिमी देशों ने कड़ी प्रतिक्रिया जतायी है।

बाइडेन प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अमेरिका को लगता है कि पुतिन की कुछ संपत्ति पर उनकी बेटियों का नियंत्रण हो सकता है। अधिकारी ने कहा, “हम मानते हैं कि पुतिन की कई संपत्तियां, परिवार के सदस्यों के पास छिपी हुई हैं और इसलिए हम उन्हें निशाना बना रहे हैं।”

डिप्टी अटॉर्नी जनरल लिसा मोनेको ने कहा, ‘‘हमारी नजर तमाम संपत्ति और जेट पर है। हम अवैध धन से अर्जित अचल संपत्ति पर भी नजर रख रहे हैं। हर बिटकॉइन वॉलेट और अन्य अपराधों की भी निगरानी की जा रही है।’’



Reference-www.jansatta.com

Add a Comment

Your email address will not be published.