PAK: नई सरकार के खिलाफ कैंपेन चलाने को इमरान खान ने प्रवासी पाकिस्तानियों से मांगा चंदा, कहा- जागी कौम को और जगा रहा हूं – PAK: Imran Khan asked for donations from overseas Pakistanis to run a campaign against the new government, said- I am awakening the awakened community more

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान सत्ता से बेदखल होने के बाद लगातार अपनी पार्टी और अपनी राजनीतिक स्थिति को मजबूत करने में जुटे हुए हैं। इमरान खान और उनकी पार्टी चुनाव की तैयारी अभी से कर रही है और इमरान खान को उम्मीद है कि जल्द ही पाकिस्तान में चुनाव होंगे। इसी के मद्देनजर नई सरकार के खिलाफ प्रचार करने के लिए इमरान खान चंदा जुटाने के अभियान में लगे हुए हैं। उन्होंने प्रवासी पाकिस्तानियों से सहयोग मांगा है।

इमरान खान ने एक वीडियो संदेश जारी करते हुए कहा कि, “मैं अपने प्रवासी पाकिस्तानियों से आज एक अपील कर रहा हूं। हमने namanzoor.com नाम की एक वेबसाइट बनाई है। इसका मकसद यह है कि हम प्रवासी पाकिस्तानियों से पैसे इकट्ठा करें और जो एक साजिश के तहत सत्ता परिवर्तन किया गया, जिन्होंने 30 साल से भ्रष्टाचार किया, आज या तो वह जमानत पर हैं या फिर देश से बाहर है। उनके खिलाफ जागी हुई कौम को मैं और जगा रहा हूं।”

इमरान खान ने कहा कि, “मेरी पूरी कोशिश है कि हम इस साजिश को फेल करें। पाकिस्तान को चुनाव की तरफ लेकर जाएं ताकि यह आवाम फैसला करे। पाकिस्तान की आवाम अगर इन चोरों को चाहती है तो ठीक है ,लेकिन फैसला आवाम का होना चाहिए। यह पाकिस्तान की आजादी के लिए कैंपेन शुरू की गई है और इसमें ज्यादा से ज्यादा लोग शिरकत करें। आपसे मैं अपील करता हूं कि आप इसमें सहयोग करें।”

इमरान खान की पार्टी के नेता शाहबाज शरीफ को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दी गई बधाई का इस्तेमाल प्रचार में भी कर रहे हैं। पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक सभा को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ पर करारा हमला बोला। शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ को प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके बधाई दी। खुद्दार इमरान खान से पीएम मोदी ने बात नहीं की थी लेकिन शाहबाज शरीफ को बधाई दी, तो आप समझ जाओ क्या इशारा है।

बता दें कि 10 अप्रैल की रात को पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग हुई थी, जिसमें विपक्ष को 174 वोट मिले थे, जबकि इमरान खान की पार्टी के सांसदों ने अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया था। इसके बाद इमरान खान की सरकार गिर गई थी और पाकिस्तान में नई सरकार बनी। शाहबाज शरीफ विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री का चेहरा चुने गए।



Reference-www.jansatta.com

Add a Comment

Your email address will not be published.